दुःख दर्द को कैसे दूर करे by Astrologer Dr Praveen Jain Kochar

किसी भी प्रकार का दुःख दर्द हो ये विडीओ देखने के बाद आपको बहुत हिम्मत मिलेगी

धर्म सर्वश्रेष्ट मंगल है , कौन सा धर्म : अहिंसा , संयम , और तप रूप धर्म | जिस मनुष्य का मन उक्त धर्म में सदा संलग्न रहता है , उसे देवता भी नमस्कार करते है |

धर्म सर्वश्रेष्ठ मंगल है – तो मंगल क्या है , दुःख क्या है , मनुष्य की पीड़ा और संताप क्या है ? उसे ना समझे तो “धर्म मंगल है , शुभ है , आनद है – इसे भी समझना आसान  होगा | भगवन महावीर कहते है – धर्म सर्वश्रेष्ठ मंगल है | जीवन में जो भी आनंद की सम्भावनाहै , वह धर्म के द्वार से ही प्रवेश करती है | जीवन में जो स्वतंत्रता उपलब्ध होती है वह धर्म के आकाश मई ही उपलब्ध होती है | जीवन में जो भी सौन्दर्य के फूल खिलते है वे धरम की जड़ो से ही पोषित होते है और जीवन मईजो भी दुःख है वह किसी  किसी रूप में धर्म सेच्युत हो जाने में , या अधर्म में संलग्न हो जाने में है

Dukh ko Dur Karne ka Upay by Astrologer Dr Praveen Jain Kochar

भगवन महावीर की दृष्टि में धर्म का अर्थ है : जो मै हो , उस होने में ही जीना , जो मै हो , उस से जरा भी इंच भर भी च्युत  होना , जो मेरा होना है , जो मेरा अस्तित्व है , उससे जहा मै बहार जाता हो सीमा का उल्लंघन करता हूँ , जहा मै विजातीय से समन्धित होता हूँ,जहा में उससे सम्भंदित होता हो जो मै नहीं हूँ , उसे मै कितना ही चहुँ , वह मेरा नहीं हो सकता | जो मैं नहीं हो उससे मैं कितना ही बचाना चाहु , उससे मै बचा नहीं सकता है | वह खोयेगा ही , जो मैं नहीं हो , उस पर मैं कितना ही श्रम और मेहनत करू , अंततमैं पाउगा वहमेरा सिद्ध नहीं हुआ | श्रम हाथ लगेगा , चिंता हाथ लगेगी , जीवन का अपव्यय होगा और अंत मे मैं पाउगा की खाली रह गया | मैं केवल उसका ही मालिक हो सकता हो जिसका मैं जानू   जानू अभी भी मालिक हूँ | शरीर गिर जायेगा तो भी जो नहीं गिरेगा वही केवल मेराहै | रुग्ण हो जायेगा सभ कुछ , नष्ट हो जायेगा सब कुछ – फिर भी जो म्लान नहीं होगा , वही मेरा है | गहन अन्धकार छा जाए चारो तरफ , अमावस  जाये जीवन मे चारो तरफ – फिर भी जो अँधेरा नहीं होगा वही मेरा प्रकाश है  |

लेकिन हम सब जो मैं नहीं हूँ , वह खोजते है स्वयं को | वही से विफलता , वही से फ्रस्ट्रेशन , वही से विषाद जन्मता है | जो भी हम चाहते है , वह स्वयं को छोड़कर सब सब चाहते है | बहुत हैरानी की बात है की इस जगत मे बहुत काम ऐसे लोग है जो स्वयं को चाहते है |शयद आपने इस भांति नहीं सोचा होगा की आपने स्वयं को कभी नहीं चाहा , सदा किसी और को ही चाहा |

वह और , कोई व्यक्ति भी हो सकता है , वास्तु भी हो सकती है , कोई पद भी हो सकता है , कोई स्थिति भी हो सकती है , लेकिन सदा कोई और है , अन्य है – The Other | स्वयं को हम में से कोई कभी नहीं चाहता और केवल एक ही सम्भावना है जगत मे की हम स्वयंको पा सकते है , और कुछ पा नहीं सकते है 

Watch this Inspirational Video in Hindi by Astrologer Dr Praveen Jain Kochar